Thalkedar Temple | प्राकृतिक सौन्दर्य से सजा तीर्थ स्थल – थलकेदार मंदिर

thal kedar temple

Thalkedar Temple | प्राकृतिक सौन्दर्य से सजा तीर्थ स्थल उत्तराखंड राज्य के पिथोरागढ़ (Pithoragarh) जन-पद में कई सारे तीर्थ स्थल हे जैसे की महाकाली मंदिर , थलकेदार मंदिर, ध्वज मंदिर , पाताल भुवन्व्श्वर , शिराकोट मंदिर , लटेश्वर मंदिर , ॐ पर्वत , कोठगढ़ी मंदिर , कपलेश्वर महादेव मंदिर , लम्ब्केस्वर महादेव मंदिर आदि यह सभी अलग अलग मंदिर एक कहानी समेटे हुए हें आइये जानते हें ऐसे ही एक कहानी थलकेदार मंदिर (Thalkedar Temple) की | थलकेदार :: नेसर्गिक सोंदर्य एवं सुषमा से सजा सवरा यह स्थान पिथोरागढ़ जन-पद…

Read More

उत्तराखंड की देवभूमि में रचे बसे काफल की मार्मिक कहानी || Kafal Fruit Story

Kafal-Fruit-Story

Kafal Fruit Story :: उत्तराखंड की देवभूमि में  रचे बसे काफल की मार्मिक कहानी  अगर आप उत्तराखंड से हे तो मेरी तरह काफल आपको भी बहुत पसंद होंगे यह  स्वादिष्ट फल अपने आप में बहुत कहानिया समेटे हुए हे आइये जानते हे एसे ही एक कहानी के बारे में : काफल पर एक कहावत उत्तराखंड में  मशहूर हैं काफल पक्को मी नी चक्खो इसका मतलब यह हे  की काफल पक गये हे पर मेने नही चखे पर क्या आप इस कहावत के बारे में  जानते हे, अगर नही तो हमारी यह…

Read More

Garhwali Jokes || Pahari Jokes

garhwali jokes

Garhwali Jokes: Here is the collection of Some Garhwali Jokes (Pahari jokes) read it and enjoy……… Basically, the language used here is Garhwali which is famous in Uttarakhand (INDIA). Garhwali language is a Central Pahari language belonging to the Northern Zone of Indo-Aryan languages. It is primarily spoken by the Garhwali people who are from the Garhwal Division of the northern Indian state of Uttarakhand in the Indian Himalayas. The Central Pahari languages include Garhwali and Kumauni (spoken in the Kumaun region of Uttarakhand). Garhwali, like Kumauni, has many regional…

Read More

उत्तराखण्ड का इतिहास

उत्तराखण्ड-का-इतिहास

उत्तराखण्ड का इतिहास पौराणिक है। स्कन्द पुराण में हिमालय को पाँच भौगोलिक क्षेत्रों में विभक्त किया गया है:- खण्डाः पञ्च हिमालयस्य कथिताः नैपालकूमाँचंलौ। केदारोऽथ जालन्धरोऽथ रूचिर काश्मीर संज्ञोऽन्तिमः॥ अर्थात् हिमालय क्षेत्र में नेपाल, कुर्मांचल (कुमाऊँ), केदारखण्ड (गढ़वाल), जालन्धर (हिमाचल प्रदेश) और सुरम्य कश्मीर पाँच खण्ड है। पौराणिक ग्रन्थों में कुर्मांचल क्षेत्र मानसखण्ड के नाम से प्रसिद्व था। पौराणिक ग्रन्थों में उत्तरी हिमालय में सिद्ध गन्धर्व, यक्ष, किन्नर जातियों की सृष्टि और इस सृष्टि का राजा कुबेर बताया गया हैं। कुबेर की राजधानी अलकापुरी (बद्रीनाथ से ऊपर) बतायी जाती है। पुराणों के अनुसार राजा कुबेर के राज्य में आश्रम में ऋषि-मुनि तप व साधना करते थे। अंग्रेज़ इतिहासकारों के…

Read More

Unique Nainital Fact | नैनीताल के बारे में 5 दिलचस्प और अज्ञात तथ्य

rochaksite

नैनीताल के बारे में 5 दिलचस्प और अज्ञात तथ्य | Nainital Fact :: हिमालय के बीच बसी हुई झील सिटी नैनीताल के बारे में कौन नहीं जानता हर साल लाखों पर्यटक इस खूबसूरत शहर के दीदार करने के लिए दूर दूर से यहाँ आते हैं आप में से बहुत से नैनीताल के प्रमुख पर्यटक आकर्षण के बारे में पहले से ही जानते होंगे , लेकिन ऐसे कई तथ्य हैं जो इस शहर के बारे में शायद आप नहीं जानते हैं | इस पोस्ट मे हम आपको कुछ दिलचस्प और अज्ञात…

Read More

Pahari Jokes

rochaksite

Pahari Jokes: Here is the collection of Some Pahari Jokes (kumaoni jokes) read it and enjoy… Basically, the language used here is kumaoni which is famous in Uttarakhand (INDIA). Kumaoni is spoken by over 2,360,000 (1998) people in Uttarakhand, primarily in districts Almora, Nainital, Pithoragarh, Bageshwar, Champawat, Udham Singh Nagar as well as in areas of Himachal Pradesh and Nepal. It is also spoken by Kumaonis resident in other Indian states; Uttar Pradesh, Assam, Bihar, Delhi and Madhya Pradesh. The Central Pahari languages include, Kumaoni and Garhwali (spoken in the…

Read More

Kumaoni Jokes | Pahari Chorey Jokes | Pahari Jokes

pahari jokes

Pahari Jokes | Pahari Chorey Jokes | Kumaoni Jokes::  Here is the collection of Some Pahari Jokes (kumaoni jokes) read it and enjoy… Basically, the language used here is kumaoni which is famous in Uttarakhand (INDIA). Kumaoni is spoken by over 2,360,000 (1998) people in Uttarakhand, primarily in districts Almora, Nainital, Pithoragarh, Bageshwar, Champawat, Udham Singh Nagar as well as in areas of Himachal Pradesh and Nepal. It is also spoken by Kumaonis resident in other Indian states; Uttar Pradesh, Assam, Bihar, Delhi and Madhya Pradesh. The Central Pahari languages include, Kumaoni…

Read More